मैं उस दौर से गुज़रा हूं जहां मुझे काम नहीं मिलता था

अच्छी कहानी वाली फिल्म में छोटा किरदार करने में कोई आपत्ति नहीं

 
Akshay-Kumar-Interview-640x480

इस शुक्रवार बॉक्स ऑफ़िस पर रिलीज़ हो रही फिल्म 2.0 में डाक्टर रिचर्ड यानी अक्षय कुमार का किरदार हर किसी को पसंद आ रहा है, वहीं बहुत कम लोग यह जानते है कि अक्षय इस फिल्म के लिए पहली पसंद नहीं थे। फिल्म के लेखक और निर्देशक ने इस किरदार के लिए ना केवल साउथ के बड़े सितारे, बल्कि हॉलीवुड के एक बड़े सितारे से भी इस किरदार को निभाने की बात की थी। हालांकि अक्षय को इन बातों से कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह किसी निर्देशक की पहली पसंद थे या नहीं। अपने शुरुआती दौर में काम पाने के लिए संघर्ष कर चुके अक्षय कुमार के लिए अगर कोई बात अहमियत रखती है, तो वो है अच्छा काम मिलना ।

मैं किसी की चौथी पसंद हूं या पाचवी, इस बात से फर्क नहीं पड़ता

Akshay-Kumar-in-2point0-Movie-500x360
इस रोल के लिए पहले कमल हासन, विक्रम और आमिर खान को लिए जाने की चर्चा थी

रजनीकांत के साथ विलेन का किरदार निभा रहे अक्षय को अपने किरदार के लिए तैयार होने में लगभग 4 घंटे का समय लगता था। खास बात है कि तीन लोगों की टीम मिल कर उनका मेकअप और प्रोस्थेटिक करती थी। थर्ड डिग्री का मेकअप कहे जाने वाले इस मेकअप को करने के बाद उन्हें ना तो कुछ खाने की ही अनुमति थी और ना ही चलने फिरने की। उन्हें एयर कंडीशनर लगे एक पिंजरे में रखा जाता था और सिर्फ शॉट लगने पर ही बुलाया जाता था। 38 दिन की ऐसी शूटिंग के दौरान उनकी सेहत का ध्यान रखने के लिए तीन डॉक्टरों की टीम उनके साथ लगातार रहती थी। खास बात है कि इस किरदार को निभाने के लिए वह निर्देशक शंकर की पहली पसंद नहीं थे। इससे पहले इस रोल के लिए 3 से 4 बड़े सितारों के बात हो चुकी थी, लेकिन आखिरकार यह रोल अक्षय को मिला। हालांकि निर्देशक की पहली ना पसंद ना होने की अक्षय को कोई परवाह नहीं। उनके मुताबिक, “ मैं उनकी पसंद की लिस्ट में था, यहीं बड़ी बात है। मुझे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं उनकी चौथी पसंद था। मैं उस तरह के बैकग्राउंड से आता हूं, जहां हमें काम तक नहीं मिलता था। ऐसे में मैं उनकी चौथी पाचवी किसी भी तरह की पसंद रहता तो भी मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता।”

मैं अब कैरेक्टर रोल के लिए भी तैयार हूं

Akshay-Kumar-500x360
इस फिल्म से पहले भी दक्षिण भारत में अक्षय कुमार ने विष्णु विजय नाम की कन्नड़ फिल्म में काम किया है

पैडमैन, गोल्ड या फिर टॉयलेट एक प्रेम कथा जैसी सोशल और की देश भक्ति से जुड़ी फिल्म करने वाले अक्षय फिल्म में नेगेटिव किरदार में नज़र आएंगे। हालांकि अक्षय को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि ग्रे किरदारों का असर उनकी इमेज पर भी पड़ सकता है। फिल्म को एक किरदार की तरह करने वाले अक्षय का कहना है कि हिन्दी सिनेमा आज उस दौर से गुज़र रहा है, जहां अच्छे किरदार को हर कोई पसंद करता है। उन्हें भी इस बात से अब कोई फर्क नहीं पड़ता कि इनका किरदार फिल्म में कितना बड़ा है। उन्हें फर्क पड़ता है तो सिर्फ और सिर्फ इस बात से की फिल्म की कहानी कितनी अच्छी हैं। अक्षय कहते हैं, “मुझे नहीं लगता कि कोई भी एक्टर इमेज के बारे में इतना सोचता है। मुझे भी कोई कैरेक्टर रोल मिला तो मैं भी कर लूंगा। हॉलीवुड में भी ऐसा होता है कि 15 मिनट का रोल क्यों ना हो, लेकिन बहुत अच्छी फिल्म में हो तो बड़े से बड़ा एक्टर वो किरदार कर लेता हैं। हर कोई अच्छा सिनेमा का हिस्सा बनना चाहता है।”

अक्षय की यह फिल्म इस शुक्रवार 29 तारीख को बॉक्स ऑफ़िस पर रिलीज़ होगी। खास बात है कि इस साल यह उनकी तीसरी फिल्म है। इस फिल्म उनकी ‘पैडमैन’ और ‘गोल्ड’ जैसी फिल्म बॉक्स ऑफिस पर तारीफें बटोर चुकी है। ऐसे में उनकी यह फिल्म कितना दर्शकों को लुभाती हैं। यह देखना काफी दिलचस्प होगा।