जब जॉन ने की दिल खोल कर बातें, तो खुल गए कई राज़

जब स्टीवन स्पीलबर्ग ने की जॉन की तारीफ

 

पिछले कई सालों से आप जॉन की फिल्में देख रहे होंगे। मॉडल से लेकर अभिनेता और अब प्रोड्यूसर तक का एक लंबा सफर जॉन इब्राहिम ने तय किया है। अपने फिल्मी करियर में जॉन ने धूम ,देसी बॉयज़, वेलकम टू , न्यूयॉर्क जैसी कई फिल्में दे कर लोगों का दिल जीता है। बतौर प्रोडयूसर वह अब अपनी अगली फिल्म परमाणु- द स्टोरी ऑफ पोखरण से लोगों का दिल जीतने के लिए फिर से तैयार है। ये फिल्म 25 मई को बॉक्स ऑफ़िस पर रिलीज़ के लिए तैयार है। लेकिन आज हम आपको जॉन के बारे में कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जो शायद ही आप जानते होंगे।

सिर्फ 3 से 4 घंटे सोते हैं जॉन

जॉन का मानना है कि भले ही वह 4 घंटे सोते हों, लेकिन कम के कम 6 घंटे की नींद हर किसी को लेनी चाहिए

आप यह बात जानकर हैरान रह जाएंगे कि जॉन इब्राहिम सिर्फ 3 से 4 घंटे ही सोते हैं। इन दिनों अपनी आने वाली फिल्म परमाणु के प्रमोशन में व्यस्त जॉन रात को मिलाप ज़वेरी की फिल्म सत्यमेव जयते की शूटिंग करते हैं और सुबह फिल्म का प्रमोशन। जॉन बताते हैं, “मैं 3 से 4 घंटे सोता हूं।मुझे डर लगता है कि मैंने काम नहीं किया तो बाकी लोग काम करके आगे ना निकल जाएं।” खुद चार घंटे सोने वाले जॉन मानते हैं कि किसी के लिए भी कम से कम 6 घंटे सोना बहुत ज़रूरी है, लेकिन जॉन नींद के साथ-साथ अपनी डाइट का बहुत ख्याल रखते हैं। वह बताते है, “मैं शराब, सिगरेट और अल्कोहल जैसी चीजों से दूर रहता हूं, इसलिए मैं फिट हूं, आज की युवा पीढ़ी को भी इन सब चीज़ों से दूर रहना चाहिए। जिससे उनकी सेहत अच्छी बनी रहे।”

जॉन इब्राहिम के पास अभी तक 74 मोटर बाइक्स हैं

जॉन अपने पास 3 या 4 से ज़्यादा बाइक नहीं रखते , वह अपने दोस्तों को दे देते हैं

जी हां, यह बात कोई नई नहीं है ,यह बात सभी जानते हैं कि जॉन इब्राहिम को बाइक्स बेहद पसंद है, लेकिन यह बात आप नहीं जानते होंगे कि जॉन इब्राहिम के पास कुल 74 बाइक्स होतीं। जी हां, जॉन बताते हैं, ‘मैंने हाल ही में दो नई बाइक्स आर्डर की है। अगर मैं अपनी सभी बाइक्स अपने साथ रखता, तो मेरे पास 74 बाइक्स होती।” हाल में उनके पास केवल 2 बाइक्स है और उन्होनें दों नई बाइक आर्डर की है। उनका कहना है कि अगर वह एक्टर नहीं होते, तो मोटरसाइकलिस्ट तो ज़रूर होते।

जब स्टीवन स्पीलबर्ग ने की जॉन की तारीफ

मॉडलिंग करियर से फिल्मों में शुरुआत करने वाले जॉन का मानना है कि उस दौरान मॉडल को बतौर एक्टर बेहतर नहीं माना जाता था। इसलिए बॉलीवुड में उन्हें जगह बनाने में थोड़ा समय लगा। अपने उन दिनों की बात को याद करते हुए जॉन बताते हैं, “ जब मैं वॉटर की स्क्रीनिंग के लिए ऑस्कर गया था, तो स्टीवन स्पीलबर्ग ने मेरे काम की तारीफ की और तब मैं मुस्कुरा दिया। मैं सोच रहा था कि मेरे बारे में मेरे देश में यह राय नहीं है”

जॉन का मानना है कि जब उन्होंने फिल्मी दुनिया में करियर की शुरुआत की, तब ओवर एक्सप्रेसीव एक्टिंग को अच्छी एक्टिंग के तौर पर जाना जाता था। हालांकि अब दौर बदल चुका है और अब कहानियां और एक्टिंग भी बदल चुकी है।

कॉमेडी को अपने दिल के करीब मानने वाले जॉन का दावा है कि बतौर प्रोड्यूसर आने वाले दिनों में भी वह बेहतरीन फिल्में हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को देने वाले हैं। उनकी आने वाली फिल्म परमाणु -द स्टोरी ऑफ पोखरण का भी सभी लोग बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।