सारा अली खान ने जब रोहित शेट्टी से हाथ जोड़ कर मांगा था काम

रोहित शेट्टी ने मुझे तब काम दिया जब इंडस्ट्री में कोई मेरी तरफ नहीं देख रहा था।

 

फिल्मी परिवार से होने की वजह से इंडस्ट्री में काम आसानी से मिल जाता है यह समझने वालों के लिए सारा अली खान एक उदाहरण है। सैफ अली खान और उनकी पहली पत्नी अमृता सिंह की यह बेटी भले ही नवाबी खानदान से संबध रखती हो, लेकिन काम मांगने के लिए उन्हें भी रोहिट शेट्टी के सामने हाथ जोड़ने पड़े थे। खास बात है कि जहां फिल्मी परिवार से आते बच्चों के साथ लांच के दौरान उनका पूरा परिवार साथ दिखता है, वहीं सारा अली खान ने अभी तक हर जगह अकेले ही शिरकत की है।

कई मैसेज के बाद रोहित शेट्टी ने मुझे मिलने बुलाया

सारा अली खान की ‘सिम्बा’ से पहले इसी महीने फिल्म ‘केदारनाथ’ रिलीज़ हुई थी।

 

मीडिया जब सिर्फ शाहरुख की बेटी सुहाना और श्रीदेवी की बेटी जान्हवी के ही लांच की बातें कर रहा था। उस दौरान सारा अली खान के भी चर्चे थे। हालांकि फिल्म में ही करियर बनाने की शुरुआत से ही इच्छा रखती सारा को इस बात का एहसास पहले से ही था कि इंडस्ट्री में पहचान बनाना आसान नहीं होगा और इसके लिए उन्हें खुद ही मेहनत करनी होगी। सारा को काम करने की तमन्ना इस कदर थी कि उन्होंने रोहित शेट्टी से हाथ जोड़ कर और सामने से चल कर काम मांगा। वह बताती हैं, “ केदारनाथ का काफी डांवाडोल था तो मैने रोहित शेट्टी सर के पास गई और बार बार मैंने उन्हें मैसेज किया कि प्लीज़ आप मुझे काम दे दो। मैं फिर एक दिन अकेली ही उनके ऑफिस पहुंच गई। उनको लगा कि मैं शायद मैनेजमेंट के साथ आऊंगी या मम्मी के साथ जाऊंगी, लेकिन मैं वहां अकेले पहुंच गई थी। सफेद सलवार कमीज़ और हाथों में चुडिया पहन कर और मैंने काम मांगते हुए हाथ जोड़ लिए।” इतना ही नहीं सारा मानती हैं कि वह हमेशा ही रोहित शेट्टी की शुक्रगुज़ार रहेंगी क्योंकि रोहित शेट्टी ने उन्हें उस दौरान काम दिया, जब इंडस्ट्री में कोई भी उनकी तरफ नहीं देख रहा था।

परिवार का हर जगह रहना ज़रुरी नहीं

सारा मानती हैं कि उनकी मां उनके काम में दखल देना पसंद नहीं करती

जहां टाइगर श्राफ या फिर सारा की ही कॉम्पिटिटर मानी जाती जान्हवी कपूर के लांच के दौरान इंडस्ट्री के कई लोगों के साथ साथ उनका पूरा परिवार मौजूद था, वहीं सारा अली खान के लांच के दौरान उनके परिवार का कोई भी सदस्य उनके इर्द गिर्द तक नहीं दिखा। जाहिर है कि काम मांगने से लेकर सफलता या फिर असफलता का सफर सारा अकेले तय करने के लिए तैयार है। सारा मानती हैं, “ हर मां बाप का ख़्वाब बच्चे को सिर्फ कामयाब देखना ही नहीं होता, बल्कि यह देखना भी होता है कि वह कैसे कामयाब बनता है। अगर मैं वकील या डॉक्टर बनती तो क्या वो मेरे साथ कचहरी या फिर अस्पताल आती। उन्हें जताने की ज़रुरत ही नहीं कि वो मेरी मां है। हर कोई यह बात जानता है।”

ज़ाहिर है कि इंडस्ट्री में एक फिल्म ओल्ड सारा जानती है कि इंडसट्री में कैसे सबका दिल जीता जाए। जहां एक तरफ वो अपनी सच्चाई और ईमानदारी से इंडस्ट्री में काम पाती जा रही है, वहीं उनकी बिंदास बातों और केदारनाथ की एक्टिंग ने यह तो साबित कर ही दिया कि सारा अली खान आने वाले दिनों में बॉक्स ऑफिस पर राज करेंगी।