आम खाने से हो सकता है आपका नर्वस सिस्टम डैमेज, जानिये कैसे?

आम खाने से पहले ज़रूर पढ़ें ये खबर

 
गर्मियों के दिन आ चुके हैं।इस झुलसती गर्मी में रसीले आमों का मज़ा कौन नहीं लेना चाहता? आम एक ऐसा फल है, जिसे खाने के लिए लोग साल भर इंतज़ार करते हैं, यही वजह है की इसे फलों का राजा कहा जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि मौसम के शुरुआत में ही, जो पके रसीले आम आप खा रहे हैं, वह आपके नर्वस सिस्टम को हमेशा के लिए डैमेज कर सकते हैं? जी हाँ, कैमिकल से पकाए हुए ये आम आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकते हैं।

दरअसल, आम को प्राकृतिक रूप से पकाने के लिए निर्धारित समय लगता है, लेकिन लोगों तक जल्दी पहुंचाने के लिए इन्हे कैल्शियम कार्बाइड, एसिटिलीन गैस, कार्बन मोनोऑक्साइड, पोटैशियम सल्फेट, इथिफॉन, प्यूट्रीजियन, ऑक्सिटोसिन जैसे कैमिकल्स का इस्तेमाल कर पकाया जाता है, जो हमारे शरीर के लिए बेहद नुकसानदायक होता है।

इनके नुकसानों से बचने के लिए आपको ज़रुरत है थोड़ा ध्यान रखने की, जिससे आप न सिर्फ कैमिकल से पके फलों को खाने से बचेंगे, बल्कि बगैर चिंता के सीज़नल फलों का मज़ा ले सकेंगे। आइये जानते हैं कि कैसे आप इन कैमिकल वाले फलों को पहचान सकते हैं।

ऐसे पहचाने कैमिकल वाले आम

प्राकृतिक रूप से पके हुए आम बेहद रसीले और अंदर से नर्म होते हैं

Credit: france.unoff.net

ऑर्गनिक फार्मिंंग को बढ़ावा देने वाले नेचर एक्सपर्ट जे. के. शर्मा की माने तो कैमिकल से पके आमों को पहचानना बेहद आसान है।

  • कैमिकल से पके आमों में पीले रंग के साथ हरे रंग के धब्बें भी होते हैं, दरअसल इन आमों में कैमिकल से पकाया गया हिस्सा पीले रंग का और बाकी हिस्सा हरे रंग का होता है। अगर आम प्राकृतिक रूप से पकाया गया हो, तो आम पूरा पीले रंग का दिखाई देगा।
  • दूसरा तरीका है कि आम को काटने के बाद अंदर के रंग की जांच करें। यदि आम पूरा पीले रंग का है तो इसे प्राकृतिक रूप से पकाया गया है, लेकिन अंदर इसमें सफ़ेद धब्बें हों तो समझ जाइये कि इनमें कैमिकल का इस्तेमाल किया गया है। ये आम अंदर से कच्चे भी होते हैं।
  • कैमिकल से पके आमों को खाने के बाद मुंह का स्वाद कसैला हो जाता है और मुंह में कुछ देर बाद जलन भी महसूस होती है। इसके अलावा इन्हें खाने के बाद लोगों को पेट दर्द, उल्टी और डायरिया की भी शिकायत होती है।

यदि आप गलती से कैमिकल से पके आम घर ले आए हैं, तो आपको ये खाने में बेस्वाद और कम रसीले लगेंगे।

खाने से पहले रखें ये ध्यान

कैमिकल से पकाए हुए आम नर्वस सिस्टम पर बुरा प्रभाव डालते हैं

Credit: wikihow.com

  • आम खाने से पहले यदि आप कुछ बातों का ध्यान रखेंगे, तो आपकी सेहत पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा।
  • आम खरीदने से पहले इन्हें सूंघ कर देखें, यदि इनमें से कैमिकल की बदबू आ रही हो, तो इन्हें ना खरीदें।
  • आम को नमक के पानी में भिगोकर रखें, इसके बाद सादे पानी में भी करीब 10 मिनट भिगोकर रखें. साफ कपड़े से पोंछ कर इसे खाने में इस्तेमाल करें।

आप चाहें तो आम को गुनगुने पानी में भी भिगोकर रख सकते हैं। इससे सतह पर लगे कैमिकल अलग हो जाएंगे। ध्यान रहे कि इन्हे धोने के लिए हर बार साफ़ पानी लें और इस्तेमाल किये पानी में इन्हे दोबारा न धोएं।

ये फल कुछ ऐसे पहुंचाते हैं आपको नुकसान

कैमिकल से पकाए हुए आम नर्वस सिस्टम पर बुरा प्रभाव डालते हैं. इन्हे पकाने के लिए कार्बाइड का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे एलिसिटिन बनता है. यह एलिसिटिन दिमाग को ऑक्सीजन पहुंचाने वाली नसों को नुकसान पहुँचाता है।इससे दिमाग में ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती और लोगों को सिर दर्द, सिर घूमना, चक्कर आना जैसी समस्याएं हो सकती हैं। लम्बे समय तक ऐसे फलों का सेवन करने से मेमोरी लॉस और कोमा जैसी गंभीर बीमारी भी हो सकती है।वहीं ये फल खाने से आपको पेट से जुड़ी हुई परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है।

कार्बाइड के अलावा कार्बन मोनोऑक्साइड और ऑक्सिटोसिन के इंजेक्शन का इस्तेमाल भी बेहद नुकसान पहुंचा सकता है। इससे पके फल खाने से शरीर में हार्मोनल गड़बड़ियाँ हो सकती है। इसके अलावा इससे स्किन कैंसर, कोलन कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, ब्रेन डैमेज, लिवर फाइब्रोसिस जैसी गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं।

अगली बार अपना पसंदीदा फल खरीदने से पहले इस बात का ज़रुर ध्यान रखे कि कहीं वो कैमीकल से पकाया हुआ तो नहीं?