एक दुनिया सिर्फ महिलाओं की, जहां मर्दों का जाना है मना

इन जगहों पर मर्द नहीं रख सकते कदम

 

दुनिया में कई ऐसी अजीबोगरीब जगह है, जहां की परम्पराएं लोगों को आश्चर्य में डाल देती हैं। यह ऐसी परंपरा है जो उस जगह को अन्य जगहों से अलग बनाती है। आज हम आपको ऐसी ही कुछ जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां मर्दों का प्रवेश वर्जित है। आलम यह है कि यहां औरतों के अलावा कोई पैर भी नहीं रख सकता। आइए जानते हैं दुनिया की ऐसी ही खास जगह, जो सिर्फ महिलाओं के लिए बनी है।

उमोजा गांव, केन्या: केन्या के आदिवासियों के बारे में आपने सुना होगा। उत्तरी केन्या में एक ऐसा ही गांव है, जहां सिर्फ औरतें रहती है। जहां एक भी पुरुष नहीं रहता। यहां तक कि यहां पुरुषों का प्रवेश वर्जित है। यहां की औरतें खुद से गहने बनाकर बेच कर और जानवर पाल कर गुजर बसर करती हैं। इस गांव को 1990 में 15 रेप से उभर चुकी औरतों ने बसाया था, यहां अधिकतर औरतें घरेलू हिंसा का शिकार हुई थी या फिर उनका बलात्कार हुआ था। कुछ औरतें शादी से बचकर भी आकर बस गई हैं। यहां और भी पर्यटक आते हैं, लेकिन यहां भी उन्हें फ्री एंट्री नहीं मिलती। पुरुषों की सत्ता से आज़ाद यह गांव पर्यटकों का आकर्षण का केंद्र है।

कुछ औरतें शादी से बचकर भी आकर बस गई हैं।

मदर्स मार्केट, मणिपुर: उत्तर पूर्वी भारत में बसे मणिपुर राज्य का वुमंस ओन्ली बाज़ार लोगों के बीच फेमस है। यह एशिया का सबसे बड़ा वूमन्स ओन्ली मार्केट है। यह  500 साल पुराना बाज़ार है, जिसे सोलहवीं शताब्दी में बसाया गया था। यहां 4000 से भी अधिक महिला व्यापारी अपनी दुकान चला कर पेट पालती हैं। इस बाज़ार का उद्देश्य महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना है। हालांकि पुरुषों ने कई बार इस बाज़ार पर कब्ज़ा करने की कोशिश की, लेकिन यहां की औरतों ने उन्हें खदेड़ दिया।

इब्रा, ओमान: रेगिस्तानी शहर इब्रा की जनसंख्या 35000 से अधिक नहीं है। यह शहर मस्कट से 140 किलोमीटर की दूरी पर बसा हुआ है। हर बुधवार इस शहर की रौनक देखते ही बनती है। यहां लगने वाला औरतों का बाज़ार लोगों के बीच फेमस है। सैकड़ों स्त्रियां कपड़ों और जेवर लाकर यहां बेचती हैं और साथ ही यहां खाने की भी अलग-अलग वस्तुएं मिलती है। बुधवार को यहां कोई पुरुष दिखाई नहीं देता। उन्हें इस बाज़ार में आने की मनाई है।

यहां खाने की भी अलग-अलग वस्तुएं मिलती है।

कसोल, हिमाचल प्रदेश: हिमाचल की गोद में बसे कसोल को प्रकृति ने फुर्सत में बनाया है। यहां जाकर आपको लगेगा कि आप इज़राइल में है। यहां के लोग हिब्रू बोलते हैं। इस गांव में पुरुषों को आने की मनाई है। टूरिस्ट यहां आते हैं, पर गांव वाले पुरुषों को ठहरने नहीं देते। जो लोग ठहरने का प्रबंध करते हैं, वह पुरूषों से एक्स्ट्रा पैसे लेते हैं। यहां औरतों के मुकाबले किसी की भी नहीं चलती।

है ना हैरानी की बात कि पुरुष प्रधान समाज में भी दुनिया में कुछ जगह ऐसी है, जहां सिर्फ महिलाओं की सत्ता चलती है। क्या आप देखना चाहेंगे इन जगहों को?