हैं एडवेंचर के दीवाने तो जाएं माउंट आबू

माउंट आबू जाकर आपको मिलेगा एडवेंचर का खज़ाना

 

राजस्थान का फेमस टूरिस्ट डेस्टिनेशन माउंट आबू एडवेंचर पसंद करने वालों के लिए सबसे अच्छी जगह मानी जाती है। यहां की खूबसूरत वादियां लोगों का मन मोहने के लिए काफी है। रेगिस्तान के बीच बेस इस हिल स्टेशन का तापमान आरामदायक रहता है और यहां फॅमिली से लेकर कपल्स तक हॉलिडे मनाने आते हैं। आपको जान कर हैरानी होगी कि कैंपिंग, घुड़सवारी और बोटिंग के साथ-साथ बलून राइड भी माउंट आबूमें की जा सकती है। वहीं एडवेंचर लवर्स को ट्रैकिंग और हाइकिंग रोमांच से भर देंगे। इसीलिए माउंट आबू को एडवेंचर लवर्स के लिए सबसे अच्छे डेस्टिनेशन में से एक है। आइये जानते हैं माउंट आबू की यात्रा में आप किस तरह रोमांचित होते हैं।

एडवेंचर लवर्स को ट्रैकिंग और हाइकिंग रोमांच से भर देंगे

कैम्पिंग

एडवेंचर के लिए माउंट आबू में कैम्पिंग भी की जा सकती है। यहां पहाड़ियों पर कैम्प लगाकर तारों भरी रात का मज़ा उठाया जा सकता है।कैम्पिंग में आप रॉक क्लाइंबिंग और रैपलिंग एक्टिविटी में भी भाग ले सकते हैं।

ट्रैकिंग

माउंट आबू में एक और चीज़ सबसे ज़्यादा फेमस है, वह है ट्रैकिंग।पहाड़ी इलाका होने के कारण यह जगह ट्रैकिंग के लिए बेहद अच्छी मानी जाती है। यहां ट्रैकिंग के लिए मानव निर्मित ट्रैक के साथ नेचुरल ट्रैक भी मौजूद है, जहां लोग अपनी जान हथेली पर रख कर इस रोमांचित कर देनेवाली चढ़ाई पर जाते हैं।

बलून राइड

माउंट आबू में कैंपिंग और ट्रेकिंग के अलावा घुड़सवारी और हॉट एयर बैलून की सवारी भी की जा सकती है। हॉट एयर बलून की सवारी आपके लिए यादगार साबित होगी। इसके ज़रिए आसमान से माउंट आबू की खूबसूरती निहार सकते हैं। ये नज़ारा किसी का भी मन मोह सकता है।

लेक साइड

रेगिस्तान के बीच बसा यह एक ऐसा हरा भरा स्थान है, जो लोगों को बेहद पसंद आता है।अरावली पर्वत श्रेणियों के बीच माउंट आबू फेमस हिल स्टेशन माना जाता है। यहां नक्की लेक एक फेमस पिकनिक स्पॉट है। यहां आकर लोग सूर्योदय देखना पसंद करते हैं। यहां सुबह की हलकी ठंड में सूर्योदय बेहद खूबसूरत दिखाई देता है। यदि आप माउंट आबू घूमने जाने का प्लान बना रहे हैं, तो नक्की लेक के पास सूर्योदय का मज़ा ज़रूर उठाएं।

इस मंदिर के दर्शन के लिए हज़ारों लोग हर साल आते हैं।

रघुनाथ मंदिर

झील के दक्षिणी छोर पर चौदहवीं शताब्दी में बनाया गया रघुनाथ मंदिर स्थित है, जो बेहद खूबसूरत है। इस मंदिर के बारे में कहानी प्रचलित है कि इस झील को खुद भगवान ने अपने नाखूनों से खोद कर बनाया था। इस मंदिर के दर्शन के लिए हज़ारों लोग हर साल आते हैं।

अगर आप माउंट आबू जाने का प्लान बना रहे हैं, तो इसके लिए फरवरी से अप्रैल और अगस्त से नवंबर तक का समय सबसे बेहतर माना जाता है।