उत्तराखंड की इस जगह पर मनाएं नया साल

इस सुन्दर जगह के नज़ारे मोह लेंगे आपका दिल

 
tip-and-top-uttarakhand-640x480

उत्तराखंड अपने खूबसूरत नज़ारों के लिए पहले ही जाना जाता है। यहां कुदरत के करिश्मे का अंबार लगा हुआ है। जहां देखें वहां हरियाली और खूबसूरत वादियां नजर आती हैं। उत्तराखंड के पौड़ी जिले में स्थित ऐसी एक सुंदर जगह है लैंसडाउन। समुद्र तल से 17 मीटर की ऊंचाई पर बसे लैंसडाउन में सेना की छावनी भी है।

1887 में भारत के वायसराय रहे लॉर्ड लैंसडाउन ने स्टेशन की खोज की थी। इस जगह को पहाड़ों को काटकर बनाया गया है। यहां घूमने के लिए काफी सारी जगह आपको मिलेगी।

टिप एन्ड टॉप:

टिफिन टॉप के नाम से भी यह जगह जानी जाती है। यहां प्रकृति की खूबसूरती का आनंद लेना हो तो ज़रूर जाना चाहिए। यहां आपको बर्फीली चोटियों का मनोरम दृश्य दिखाई देगा। वही ऊंचाई से बसे छोटे-छोटे गांव भी आप आसानी से देख सकते हैं।

गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंट युद्ध स्मारक:

गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंट युद्ध स्मारक यहां का लोकप्रिय पर्यटक स्थल है। गढ़वाल राइफल्स एक युद्ध स्मारक है जिसका निर्माण 11 नवंबर 1923 में करवाया गया था।

भुल्ला तालाब:

भुल्ला तालाब गढ़वाल राइफल्स के योद्धाओं ने को समर्पित है और प्राकृतिक सुंदर झील लैंसडाउन का आकर्षक स्थल है। यह झील का नाम बुल्ला पर रखा गया है। यहां आप डूबते सूरज कीखूबसूरती देख सकते हैं।

भीम पकौड़ा:

2 किलोमीटर के ढलान पर ट्रैक करके यहां पहुंचना पड़ता है। यहां एक के ऊपर एक दो बड़े पत्थर बिल्कुल बैलेंस में रखे हुए हैं। वैसे तो पत्थरों को हिलाया जा सकता है पर कोई भी पत्थरों को गिरा नहीं पाया। अगर आपको एडवेंचर पसंद है और ट्रेकिंग और जंगल सफारी का शौक है, तो यहां जरूर जाना चाहिए।

कैसे पहुंचे?

दिल्ली से लैंसडाउन आसानी से पहुंचा जा सकता है। यदि आप रोड से जाना चाहते हैं तो आप कैब कर सकते हैं। यदि रेल से जाना चाहते हैं तो कोटद्वार द्वारा यहां से पहुंच सका पहुंचा जा सकता है। यहां का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा जौलाग्रांट एयरपोर्ट है, जो लैंसडाउन से 152 किलोमीटर की दूरी पर है। तो इस बार नए साल की छुट्टीयों में आप यहां जाने का प्लान बना सकते हैं।