निजी ज़िंदगी में है परेशान तो प्रोफेशनल लाइफ का कैसे रखे ख्याल

बहुत जरूरी है कि आप खुद के लिए थोड़ा समय निकालें

 
how-to-navigate-professional-life-amidst-a-personal-crisis-640x480
Image Credit: Movie - Tamasha

हो सकता है कि आप कंपनी के सबसे ज्यादा विश्वसनीय एम्पलाई और वर्कर है। आप अपना काम हमेशा एक निश्चिंत डेडलाइन में खत्म कर देते हैं और साथ ही आप ऐसे सहकर्मी है, जिनके साथ काम करना हर कोई पसंद करता है। लेकिन फिर भी कभी भी आपकी जिंदगी में ऐसा समय आ सकता है कि शायद आपके लिए ऑफिस में बेस्ट परफॉर्म करना मुमकिन ना हो। ब्रेकअप या फिर निजी ज़िंदगी में परिवार से जुड़ी समस्या भी आपको परेशान कर सकती हैं। जिसकी वजह से हो सकता है कि आप अपने काम पर ध्यान ना दें। लेकिन आप भी अगर अपनी जिंदगी में परेशान है, तो अपनी प्रोफेशनल लाइफ में कैसे ध्यान दे, आज हम आपको बताएंगे।

खुद को थोड़ा समय दीजिए

साइंस ऑफ़ स्किन की एमडी और फाउंडर स्रुत्रि गोंडी का कहना है कि बहुत ज़रूरी है कि ऐसे वक्त में आप खुद को थोड़ा समय दें। वह कहती हैं, “किसी भी तरह के क्राइसिस में आपको दुख और तकलीफ तो होगी ही। यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप उससे कैसे डील कर काम पर वापस आते हैं। अगर कोई बहुत ही गंभीर समस्या है जैसे कि आपके परिवार का कोई सदस्य या करीबी दोस्त किसी जानलेवा बीमारी का शिकार हो चुका है, तो आपका दुखी होना लाज़मी है। ऐसे में अपने काम से छुट्टी लेने से ना घबराए। बिना मन काम पर जाने से अच्छा है कि घर पर रह कर ही जो महत्वपूर्ण काम है उनको खत्म करें और बाकी समय घर पर आराम करके निकाले।”

tamasha-500x360
फिल्म तमाशा में निजी ज़िंदगी में परेशानियों से जूझ रहे रणबीर कपूर भी अनप्रोफेशनल बिहेव करने लगते हैं

अपने सहयोगियों के साथ ईमानदार रहिए

अपनी सभी परेशानियों को अकेले झेल लेना सुनने में बड़ा ही बहादुरी वाला काम लगे, लेकिन बेहतर होगा कि अगर आप अपने सहकर्मियों को अपनी प्रॉब्लम बताएं। अगर आप एक अच्छे टीम मेट है, तो आपको जानकर हैरानी होगी कि आपके साथ काम करने वाले आपके सहकर्मी भी आप को सपोर्ट करने के लिए तुरंत तैयार हो जाते हैं। हो सकता है कि वह आपका काम कम करने में आपकी मदद करें। याद रहे कि किसी भी कीमत पर अपने साथ हो रही परेशानियों को अपने सहकर्मियों से ना छिपाए।

खुद पर ध्यान देना थोड़ा मुश्किल हो जाता है

डॉक्टर गोंडी का कहना है आप जब भी ऑफिस में है तो इस बात का ध्यान रखें कि आप अपनी मेंटल एनर्जी कहां लगा रहे हैं। बहुत ज्यादा चिंता करना हेल्दी नहीं है। अगर बहुत परेशान है तो अपने काम से 15 मिनट का वक्त निकालिए और आराम से बैठकर सोचिए। कई बार आपकी परेशानी का असर आपके काम पर भी हो सकता है। काम पर आपकी परेशानियों का ज़्यादा असर ना पड़े इसके लिए बेहतर होगा कि आप शुरुआत में ही कुछ समय अलग निकालकर उस परेशानी का हल ढूंढ ले और फिर काम पर वापसी करें।

तो निजी जिंदगी में अगर आप परेशान हैं और कई दिक्कतों का सामना कर रहे हैं, तो बेहतर होगा कि आप अपने सहकर्मियों के साथ ईमानदार रहें और अपना ख्याल रखना ना भूले। ऐसा करने से चीजों को कुछ हद तक सही किया जा सकेगा।