काम का प्रेशर हो ज़्यादा, तो बॉस को ज़रूर बताएं

काम का प्रेशर हो ज़्यादा, तो बॉस को ज़रूर बताएं

 

अक्सर ऑफिस में बड़े पद पर रहने की वजह से आप पर जिम्मेदारियों का बोझ बढ़ सकता है। ऑफिस में काम ज़्यादा होने की वजह से आप खुद पर ध्यान नहीं दे पाते, ऐसे में जरूरी है कि आप अपने ऊपर बढ़ते बोझ के बारे में अपने बॉस को ज़रूर बताएं। अक्सर ऐसा होता है कि एक साथ कई प्रोजेक्ट पर आपको काम करना होता है और उनकी डेडलाइन का आपको ख्याल रखना होता है। कई बार आपके बॉस को याद नहीं होता कि उन्होंने एम्पलाई को कौन सा प्रोजेक्ट अलॉट किया है और यही वजह है कि कई बार किसी एक व्यक्ति पर ज़्यादा काम का बोझ बढ़ जाता है। इसीलिए अपनी जिम्मेदारियों के बारे में बॉस से ज़रूर बातें करनी चाहिए। आइये जानते हैं कैसे आप खुद पर बढ़ रहे बोझ के बारे में बॉस से बात कर सकते हैं।

मुंबई में मैनेजर के तौर पर काम करनेवाली रचना राधाक्रिष्णन कहती हैं कि यदि आप बॉस से काम के बोझ के बारे में बात करने जाएं, तो सॉल्यूशन या दूसरा ऑप्शन अपने साथ लेकर जाएं। इससे आपको फायदा हो सकता है। आप अपनी सहूलियत के हिसाब से समस्या का तोड़ साथ रखें, जिससे बॉस को सुनने में आसानी हो। बातचीत करने से पहले यह मालूम होना चाहिए कि आपकी की हुई बात का असर आपके करियर पर किस तरह पड़ेगा। यदि आपके पास पहले से ही प्लान मौजूद हो, तो बॉस आपकी बात ज़रूर सुनेंगे।

कई बार ऐसी बातचीत के दौरान बॉस का काम कम हो जाता है और आपके दिए हुए सॉल्यूशन पर भी वे गौर करते हैं, जो आखिरकार आपके हक़ में होता है। कई बार प्रोजेक्ट पर और प्रोडक्शन पर इसका असर पॉजिटिव तरह से दिखाई देता है। ऐसा कई बार जब हम काम को लेकर परेशान होते हैं तो प्रोडक्ट की क्वालिटी पर ध्यान नहीं दे पाते। इसकी वजह से आपकी रेप्युटेशन खराब हो सकती है। कंपनी आपको इसलिए हायर करती है ताकि आप कंपनी के प्रोडक्ट को बेहतर बनाएं। याद रखें कि कोई भी बॉस क्वालिटी की कीमत से ज़्यादा काम की मात्रा को पसंद नहीं करता, इसलिए उन्हें खुल कर बताएं कि अधिक काम के कारण आप किस प्रकार आउटपुट के क्वालिटी गिर रही है, जिससे वे आपकी बात आसानी से समझ सके।

जब काम को लेकर जिम्मेदारी ज्यादा बढ़ जाए और आप परेशान हों, तो इस बारे में बॉस से खुलकर बात करें। बिना हिचकिचाए की हुई बात को बॉस ध्यान देकर सुनते हैं। आपका कोई भी बोल्ड मूव बॉस का ध्यान आकर्षित कर सकता है। खुल कर बात करने से फायदा यह होता है कि आप अपनी समस्या को बेहतर तरीके से बॉस के सामने रख सकते हैं। याद रखें कि जब आप काम को सही तरीके से और डेडलाइन के भीतर खत्म करते हैं, तो बॉस भी उनकी सराहना करते हैं। इसीलिए अपना ट्रेक रिकॉर्ड अच्छा रखें। साथ ही इस बात का ध्यान दें कि काम को लेकर किसी प्रकार की लापरवाही ना करें। जब आपका काम दूसरों से बेहतर होगा, तो बॉस को आपके काम की परवाह होगी। ऐसे में वे आपकी समस्याओं को सुनेंगे और उन्हें समझने का प्रयत्न करेंगे।