आखिर Nike को देना ही पड़ा महिला कर्मचारियों को उनका हक ऐसा क्या हुआ की कहानी बदल गई ?

While there were reports of gender disparity earlier, the equation is now shifting

 
Nike Just Did It - Women Take Over Top Roles, Shuffle Men Out Of The Company
Image Credit: Image Credit: buro247

आप में से हर किसी के पास Nike की कोई ना कोई चीज़ ज़रूर होगी जो आपकी पसंदीदा हो। Nike का इस्तेमाल करना एक स्टेटस सिम्बल भी माना जाता है। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि जहां एक ओर Nike अपने खरीदारों को खुश रखने की कोशिश करता है, वहीं दूसरी ओर उसके अपने कर्मचारी उससे बिल्कुल खुश नहीं। खास तौर पर कम्पनी में काम करती महिलाएं।

देश विदेश में अपनी पहचान बना चुके Nike में, महिला कर्मचारियों को उनके पुरुष सहकर्मियों से कम आंका जाता था। कंपनी की महत्वपूर्ण मीटिंग्स में उन्हें बोलने का मौका नहीं मिलता था और ना ही उन्हें प्रोमोशन के लायक समझा जाता था। ज़ाहिर सी बात है, इन्हीं सब कारणों से Nike में काम कर रही महिलाओं को अपने करियर में आगे बढ़ने का कोई मौका नहीं मिलता था।

लेकिन अब कहानी कुछ और है

दरअसल कुछ महिलाओं ने मिलकर एक सर्वे तैयार किया और अपनी सभी महिला सहकर्मियों को इसमें शामिल कर लिया। इस सर्वे के दौरान सभी महिलाओं से कंपनी में हो रहे भेदभाव के विषय पर कई सवाल पूछे गए ।उनसे पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है कि इस कंपनी में महिलाओं और पुरुषों के बीच भेदभाव किया जा रहा है ? इन सभी महिलाओं से जो जवाब मिले वह काफी चौंकाने वाले थे।

 

अब Nike अपनी गलतियों मे कर रही है सुधार

Image Credit: vox

सभी महिलाओं के जवाब Nike के सीईओ मार्क पार्कर को भेज दिये गये। इस सर्वे को देखकर खुद मार्क भी दंग रह गए और इससे काफी हलचल मच गई। सर्वे से सामने आया कि Nike में काम कर रही तकरीबन हर महिला कर्मचारी खुद को भेदभाव का शिकार महसूस कर रही थी और कंपनी के इस व्यवहार से नाखुश थीं। सीईओ मार्क पार्कर ने तुरंत इस दिशा में कार्यवाही करते हुए सबसे ऊंचे पदों पर बैठे कई पुरुषों को कंपनी से बाहर निकाल दिया। इन नामों में Nike के प्रेसिडेंट ट्रेवर एडवर्ड्स भी शामिल है जो Nike के अगले सीईओ बनने की रेस में शामिल थे। एडवर्डस के मुख्य सहयोगी जेमी मार्टिन को भी निकाल दिया गया जो Nike के अंतरराष्ट्रीय व्यवसाय को संभाल रहे थे।इन सभी बड़े नामों के साथ साथ Nike के फुटवियर विभाग के वाइस प्रेसिडेंट और बास्केटबॉल विभाग के एक सीनियर डायरेक्टर को भी निकाल दिया गया।

 

ट्रेवर एडवर्ड्स और जेमी मार्टिन को भी निकाला गया

Image Credit: middletownpressweartesters

फिलहाल इन पदों के लिए ज़िम्मेदार महिला कर्मचारियों को चुना गया है लेकिन कम्पनी ने अपने एच आर के नियमों में भी सुधार लाना शुरू किया है, जिससे भविष्य में महिलाएं अपने काम को लेकर किसी भी समस्या या भेदभाव से जुड़ी शिकायत को दर्ज कराने में ना कतराएं। आखिरकार Nike में काम कर रही महिलाओं ने दुनिया को दिखा दिया कि अगर आप एकजुट हो जाए तो कुछ भी करना मुमकिन है।